मैं अपने देश के बारे में निबंध कैसे लिखूं? | मेरे देश भारत के बारे में क्या खास है?

0

मैं अपने देश के बारे में निबंध कैसे लिखूं? | मेरे देश भारत के बारे में क्या खास है?

यह एक ऐसा देश है जो हजारों गांवों का घर है। इसी प्रकार, भारत के खेतों को शक्तिशाली नदियों द्वारा सींचा जाता है। उदाहरण के लिए, गंगा, कावेरी, यमुना, नर्मदा और अन्य भारत की नदियाँ हैं।  सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि गहरे समुद्र हमारे देश के तटों की रक्षा करते हैं और शक्तिशाली हिमालय हमारी प्राकृतिक सीमाएं हैं।

भारत में विश्व बैंक 1.2 अरब से अधिक की आबादी वाला भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। पिछले एक दशक में भारत विश्व अर्थव्यवस्था से जुड़ा है और साथ ही इसका आर्थिक विकास भी हुआ है। भारत अब विश्व खिलाड़ी के रूप में उभरा है।

भारत पर निबंध (India Essay in Hindi)

भारत पूरे विश्व में प्रसिद्ध देश है। भौगोलिक दृष्टि से हमारा देश एशिया महाद्वीप के दक्षिण में स्थित है। भारत अत्यधिक जनसंख्या वाला देश होने के साथ-साथ प्राकृतिक रूप से सभी दिशाओं से सुरक्षित है।

यह अपने महान सांस्कृतिक और पारंपरिक मूल्यों के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध देश है। इसमें हिमालय नाम का एक पर्वत है जो दुनिया में सबसे ऊंचा है।

यह तीन तरफ से तीन महासागरों से घिरा हुआ है जैसे दक्षिण में हिंद महासागर, पूर्व में बंगाल की खाड़ी और पश्चिम में अरब सागर।

भारत एक लोकतांत्रिक देश है जो जनसंख्या के मामले में दूसरे नंबर पर है। भारत में मुख्य रूप से हिंदी भाषा बोली जाती है लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर लगभग 22 भाषाओं को मान्यता दी गई है।

भारत पर लघु और दीर्घ निबंध (Long and Short Essay on India in Hindi)

भारत एक खूबसूरत देश है जो अपनी विशिष्ट संस्कृति और परंपरा के लिए जाना जाता है। यह अपनी ऐतिहासिक विरासत और स्मारकों के लिए प्रसिद्ध है।

यहां के नागरिक बहुत विनम्र और प्रकृति से मिले हुए हैं। 1947 से पहले यह ब्रिटिश शासन के अधीन एक गुलाम देश था।

हालाँकि, हमारे महान स्वतंत्रता सेनानियों के संघर्ष और समर्पण के कारण, भारत को 1947 में अंग्रेजों से आज़ादी मिली।

जब भारत को स्वतंत्रता मिली, तो पंडित जवाहर लाल नेहरू भारत के पहले प्रधान मंत्री बने और भारतीय ध्वज फहराया, और कहा कि "जब दुनिया सोती है, भारत जीवन और स्वतंत्रता के लिए जागेगा"।

भारत मेरी मातृभूमि है और मैं इसे बहुत प्यार करता हूँ। भारत के लोग स्वभाव से बहुत ईमानदार और भरोसेमंद होते हैं।

विभिन्न संस्कृतियों और परंपराओं के लोग बिना किसी समस्या के एक साथ रहते हैं। हिंदी मेरे देश की मातृभाषा है, हालांकि यहां विभिन्न धर्मों के लोगों द्वारा बिना किसी प्रतिबंध के कई भाषाएं बोली जाती हैं।

भारत प्राकृतिक सौंदर्य का देश है जहां समय-समय पर महान लोगों का जन्म हुआ और उन्होंने महान कार्य किए।

भारतीयों का स्वभाव दिल को छू लेने वाला होता है और वे दूसरे देशों के मेहमानों का गर्मजोशी से स्वागत करते हैं।

भारत में भारतीय जीवन दर्शन का पालन किया जाता है जिसे सनातन धर्म कहा जाता है और यह यहाँ विविधता में एकता बनाए रखने का मुख्य कारण बनता है।

भारत एक गणतंत्र देश है जहाँ देश के लोगों को देश के बारे में निर्णय लेने का अधिकार है। यहां देखने के लिए प्राचीन काल के कई खूबसूरत प्राकृतिक दृश्य, स्थान, स्मारक, ऐतिहासिक धरोहर आदि हैं जो दुनिया के कोने-कोने से लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं।

भारत अपने आध्यात्मिक कार्यों, योग, मार्शल आर्ट आदि के लिए बहुत प्रसिद्ध है। अन्य देशों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु और तीर्थयात्री यहां के प्रसिद्ध मंदिरों, स्थलों और ऐतिहासिक धरोहरों की सुंदरता को देखने के लिए भारत आते हैं।

मेरे देश भारत के बारे में क्या खास है? (निबंध 300 शब्द)

प्रस्तावना

मेरा देश भारत शिव, पार्वती, कृष्ण, हनुमान, बुद्ध, महात्मा गांधी, स्वामी विवेकानंद, कबीर आदि जैसे महापुरुषों की भूमि है। यह एक ऐसा देश है जहां महान लोगों ने जन्म लिया और महान कार्य किए। मैं अपने देश से बहुत प्यार करता हूं और उसे सलाम करता हूं।

भारत अनेकता में एकता

भारत एक लोकतांत्रिक और गणतांत्रिक देश है जहां देश की जनता को देश की भलाई के लिए निर्णय लेने का अधिकार है।

भारत "विविधता में एकता" कहने के लिए एक प्रसिद्ध देश है क्योंकि विभिन्न जातियों, धर्मों, संस्कृतियों और परंपराओं के लोग एकता में एक साथ रहते हैं। अधिकांश भारतीय स्मारक और विरासत विश्व धरोहर स्थल से जुड़े हुए हैं।

यह अपने सबसे बड़े लोकतंत्र और दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यता के लिए प्रसिद्ध है। यह चीन के बाद दुनिया का दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला देश है।

यह एक ऐसा देश है जहां कई धर्मों और संस्कृतियों के सभ्य लोग एक साथ रहते हैं। यह राणा प्रताप, लाल बहादुर शास्त्री, जवाहरलाल नेहरू, महात्मा गांधी, सरदार पटेल, सुभाष चंद्र बोस, भगत सिंह, लाला लाजपत राय आदि जैसे महान योद्धाओं का देश है।

देश के ये सभी महान नेता गांवों से आए और देश को आगे बढ़ाया। इन लोगों ने कई वर्षों तक संघर्ष किया और देश को ब्रिटिश शासन से मुक्त कराया।

यह एक समृद्ध देश है जहां साहित्य, कला और विज्ञान के क्षेत्र में रवींद्रनाथ टैगोर, सारा चंद्रा, प्रेमचंद, सीवी रमन, जगदीश चंद्र बोस, एपीजे अब्दुल कलाम, कबीर दास आदि महान लोगों का जन्म हुआ।

भारत के ऐसे महान लोगों ने देश को गौरवान्वित किया है। यह एक ऐसा देश है जहाँ गंगा, यमुना, गोदावरी, नर्मदा, ब्रह्मपुत्र, कृष्णा, कावेरी, बंगाल की खाड़ी, अरब सागर आदि जैसी प्रसिद्ध नदियाँ और महासागर नियमित रूप से प्रवाहित होते हैं।

निष्कर्ष

भारत तीन तरफ से महासागरों से घिरा एक खूबसूरत देश है। यह एक ऐसा देश है जहां के लोग बौद्धिक और आध्यात्मिक हैं और वे देवी-देवताओं में भी विश्वास करते हैं। हम सभी को मिलकर भारत की "विविधता में एकता" की इस गरिमा को बनाए रखना है।

इक्कीसवीं सदी का भारत 

[भूमिका, परिवर्तित भारत, आणविक भारत, वैज्ञानिक सुविधाओं से युक्त भारत, अंधविश्वास-विहीन भारत, कुछ शंकाएँ]

भूमिका

भारत को आजाद हुए लगभग पचास वर्ष हुए हैं। इन वर्षों में भारत ने हर क्षेत्र में आश्चर्यजनक विकास किया है। अंग्रेजों द्वारा दी गई दरिद्रता को हटाकर यह विकासशील देशों की पंक्ति में आकर खडा हो गया है। विभिन्न क्षेत्र में हमने आत्म निर्भरता प्राप्त कर ली है। इस आत्म-निर्भरता से हमारे सम्मान में बढ़ोतरी हुई है। 

परिवर्तित भारत 

परिवर्तन सृष्टि का नियम है। भारत की अनेक परिवर्तनों के दौरों से गुजरा है। स्वतंत्रता के समय आज के आश्चर्यजनक परिवर्तनों की कल्पना भी नहीं की जा सकती थी। 

यद्यपि गरीबी पर हमने पूर्णत: विजय नहीं पाई है तथापि आम आदमी के जीवन-स्तर में सुधार लाने में हम अवश्य रूल हुए हैं। 

कृषि के क्षेत्र में, व्यापार के क्षेत्र, सामाजिक क्षेत्र में, राजीतिक क्षेत्र में और सांस्कृतिक क्षेत्र में भारत आज विकसित देशों की होड़ कर रहा है बल्कि कई क्षेत्र में तो उनका मार्गदर्शन - भी कर रहा है। 

आशा की जाती है कि परिवर्तन और विकास की यही दर रही तो 21 वीं शताब्दी में भारत एक महाशक्ति के रूप में उभरेगा।

आणविक भारत

भारत अब परमाणु शक्ति संपन्न देश है। यद्यपि इसके इरादे शांतिप्रिय हैं तथपि पड़ोसी देशों के गलत इरादों को धूल चटाने में हम सक्षम हैं। 

भारत में आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले शत्रुओं को हम ताल ठोककर चेतावनी दे सकते हैं। भारत ने अपनी बलबूते पर इतने कम समय में इतनी बड़ी उपलब्धि हासिल की है। परमाणु विकास की यदि यही प्रगति रही तो भारत आने वाले वर्षों में पूर्णतः आत्मनिर्भरता प्राप्त कर लेगा।

वैज्ञानिक सुविधाओं से युक्त भारत

आज का समय कंप्यूटर और रोबोट का समय है। भारत में भी इस तकनीक का उत्तरोत्तर विकास होता जा रहा है। कृषि क्षेत्र में, जहाँ सबसे अधिक शरीरिक परिश्रम करना पड़ता था, अब यंत्रों ने स्थान ले लिया है। 

कृषि के लिए फसलों की नई-नई किस्में तैयार की जा रही हैं। देश में हरित क्रांति की लहर छा गई है। देश में पोलियो-मुक्ति अभियान चलाया गया है। आशा की जाती है कि 21वीं शताब्दी पूर्णतः पोलियो-मुक्त होगी। नागरिक स्वस्थ होंगे।

अंधविश्वास-विहीन भारत 

बीसवीं शताब्दी से 21 वीं शताब्दी में जाने को सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि भारतीयों की अंधविश्वासों पर विजय की होगी। भारतीयों पर अंधविश्वासी होने का ठप्पा-सा लगा है। 

परंतु अत्याधुनिक वैज्ञानिक प्रयोगों ने, भौतिक सुख-साधनों ने, आध्यात्मिक क्रांति ने अंधविश्वासी लोगों की संख्या में भारी कमी कर दी है। 

भारतीय जन वैज्ञानिक दृष्टि से सोचने लगे हैं। अंधविश्वास भाग्यवादी को जन्म देता है। भाग्यवाद विकास का मार्ग अव३द्ध कर देता है। जैसे-जैसे भाग्यवाद का आवरण हटता जाएगा, विकास का मार्ग प्रशस्त होता जाएगा।

कुछ शंकाएँ

भारत अपने लक्ष्य-पथ पर तेजी के साथ बढ़ रहा है। यह विकसित देशों की सहन-शक्ति से बाहर है। पड़ोसी देशों से भी भारत को लगातार खतरा रहा है। 

विकसित देशों द्वारा भारत पर समय-समय पर प्रतिबंध लगाए जाते रहे हैं। भारत द्वारा किए गए परमाणु परीक्षण से ईर्ष्यालु देशों को आपत्तियाँ हुईं। 

उन्होंने अनेक प्रतिबंध भी लगाए परंतु सबल व्यक्तियों की सबल सरकार के चलते सभी रो-धोकर बैठ गए। भारतीय संस्कृति और सभ्यता का विश्व में दबदबा भी इतना है कि सभी इसका आदर करते हैं। फिर भी भारतीयों में इतनी सामर्थ्य है कि कोई भी विपत्ति आए, वे उसका सीना तानकर सामना करने को तैयार हैं।

हमारा देश भारत पर निबंध | Essay On Our Country In Hindi

भारत एक विशाल देश है। क्षेत्रफल की दृष्टि से यह विश्व का सातवाँ सबसे बड़ा देश है। जनसंख्या की दृष्टि से इसका स्थान विश्व में दूसरा है।

हमारा देश विश्व के विकासशील देशों की श्रेणी में आता है। यह तीव्र गति से विकास कर रहा है। इक्कीसवीं सदी में भारत विकसित राष्ट्रों की कतार में खड़ा होने को आतुर हो गया है।

हमारे देश का यह नाम सूर्यवंशी राजा 'भरत' के नाम पर पड़ा। भरत दुष्यंत और शकुंतला के पुत्र थे। उन्हीं के नाम पर इस देश का नाम भारत पड़ा।

भारत के अतिरिक्त इसे हिन्दुस्तान, भारत, आर्यावर्त आदि नामों से भी जाना जाता है। यही वह देश है जहाँ सिन्धु घाटी की नगरीय सभ्यता का विकास हुआ।

यह वह पवित्र भूमि है जहां हिंदू संस्कृति का विकास हुआ और वेदों के मंत्र लिखे गए। कृष्ण, राम, गौतम बुद्ध, महावीर और नानक इस भूमि पर अवतरित हुए।

कबीर, रविदास, तुलसीदास, गालिब, रहीम, सूरदास और गांधी जैसे संत और कवि इस धर्म भूमि में पैदा हुए थे। यहीं पर धर्म ने अपनी पराकाष्ठा को छुआ।

भौगोलिक दृष्टि से भारत एशिया महाद्वीप में तीन ओर से समुद्र से घिरा देश है। इसके उत्तर में हिमालय की विश्व प्रसिद्ध श्रेणी है।

पूर्व में बंगाल की खाड़ी, पश्चिम में अरब सागर और दक्षिण में हिन्द महासागर। भारत में पठार, पहाड़, नदियाँ, जंगल, झरने, झीलें आदि सब हैं। दक्षिण भारत का एक बड़ा भाग पठारी है।

गंगा, ब्रह्मपुत्र, यमुना, कावेरी, सतलुज आदि यहाँ की प्रमुख नदियाँ हैं। यहां की लगभग 20 प्रतिशत भूमि पर वन हैं। उत्तर में समतल मैदान हैं। यहाँ की जलवायु गर्म है।

समुद्र की दूरी तथा समुद्र तल की ऊँचाई के अनुसार कुछ स्थानों पर विषम जलवायु होती है। यहाँ मुख्यतः चार ऋतुएँ होती हैं- शीत, वसंत, ग्रीष्म और वर्षा।

प्राचीन भारत धन-धान्य से परिपूर्ण था। सब कुछ स्वाभाविक रूप से संतुलित था। लोग खुश थे। फिर विदेश से आए लोगों ने इस देश पर शासन करना शुरू किया। लगभग एक हजार वर्ष तक देश गुलामी की स्थिति में रहा।

आखिरकार 15 अगस्त 1947 को देश आजाद हो गया। भारत एक बार फिर ताकत और ताकत कमाने के रास्ते पर चल पड़ा। संकीर्ण जाति की मान्यताएँ मिट गईं और प्रजा का शासन प्रारम्भ हो गया।

लोकतंत्र के इस युग में सभी भारतीयों को अपनी प्रगति के समान अवसर प्राप्त हैं। लोकतंत्र से भारत को बहुत लाभ हुआ है। बेरोजगारी दूर हुई है और अशिक्षा कम हुई है।

यहां उद्योगों का काफी विकास हुआ है। कृषि के क्षेत्र में भी अपेक्षित प्रगति हुई है। भारत की विकास दर तेज है। हमारी सेनाएं देश की रक्षा में लगी हैं। भारत दुनिया की एक बड़ी आर्थिक शक्ति बन गया है।

भारत में धर्म ने ऊंचाइयों को छुआ है। इसने विश्व को शांति, सत्य और अहिंसा का उपदेश दिया। कृष्ण ने लोगों को कर्मयोग का पाठ पढ़ाया। राम ने मर्यादा का आचरण सिखाया।

गौतम बुद्ध और महावीर ने दुनिया को अहिंसा और सत्य के मार्ग पर चलने की सीख दी। कबीर ने धार्मिक आडंबर की निंदा की। गांधी ने भारत का खोया हुआ सम्मान लौटाया।

प्राचीन ऋषियों ने अपने आचरण से तत्कालीन समाज को धर्म का पालन करने की शिक्षा दी। शंकराचार्य ने भारत की सांस्कृतिक एकता की नींव को मजबूत किया।

स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद देश का पुनर्निर्माण प्रारंभ हुआ। हिंदी को देश की राष्ट्रभाषा बनाया गया। अन्य प्रमुख भाषाओं को भी संविधान में स्थान दिया गया।

बाघ राष्ट्रीय पशु बन गया, कमल राष्ट्रीय फूल बन गया, तिरंगा राष्ट्रीय ध्वज बन गया, और सारनाथ में अशोक स्तंभ से लिया गया प्रतीक राष्ट्रीय प्रतीक बन गया। मोर को राष्ट्रीय पशु बनाया गया। हॉकी को राष्ट्रीय खेल का दर्जा दिया गया।

भारत की संस्कृति बहुरंगी है। यहां विभिन्न संप्रदायों जैसे हिंदू, मुस्लिम, ईसाई, सिख, जैन, बौद्ध आदि के लोग रहते हैं। यहाँ विभिन्न प्रकार की बोलियाँ और भाषाएँ बोली जाती हैं।

यहां आर्य, द्रविड़, आदिवासी आदि विभिन्न जातियों के लोग रहते हैं। फिर भी सब भारतीय हैं। रीति-रिवाजों, पहनावे, खान-पान और मान्यताओं में अंतर होने के बावजूद सभी की एक राष्ट्र के संविधान में आस्था है।

भारतीयता सभी में विद्यमान है। कभी-कभी झगड़े और धार्मिक उन्माद भी होते हैं, लेकिन भारतीयता का तत्व फिर से मजबूत हो जाता है।

पूरी दुनिया में कई तरह की समस्याएं हैं। भारत भी अपनी समस्याओं से घिरा हुआ है। जनसंख्या, अशिक्षा, बेरोजगारी, आतंकवाद और राजनीतिक तुष्टिकरण भारत की प्रमुख समस्याएँ हैं।

कुछ लोग भारत के संविधान का गलत फायदा उठा रहे हैं। वे भारत की प्राचीन मान्यताओं और संस्कृति पर प्रहार कर रहे हैं। आतंकवादी प्रवृत्ति के लोगों को राजनीतिक संरक्षण मिल रहा है। लोगों को इन समस्याओं को समझना होगा। उन्हें देश की रक्षा के लिए हमेशा तैयार रहना होगा।

हमारा देश भारत पर निबंध Essay On Our Country in Hindi

भारत देश को सोने की चिड़िया कहा जाता है। हमारा देश भारत वह देश है जहां माताएं भगवान को गोद में खिलाती हैं। हमारे देश का नाम राजा दुष्यंत और रानी शकुंतला के पुत्र भरत के नाम पर रखा गया था।

भारत देश का प्राचीन नाम आर्यावर्त था, अंग्रेजों ने इसे 'इण्डिया' नाम दिया। हमारा देश कश्मीर से कन्याकुमारी तक फैला हुआ है।

हमारा देश अनेक देवी-देवताओं का वास है और अनेक तीर्थस्थल भी हैं। यहां सभी जाति, भाषा और धर्म के लोग रहते हैं। हमारे देश की राजधानी नई दिल्ली है। हमारा देश एक कृषि प्रधान देश है। कई प्रकार हैं

फसलें उगाई जाती हैं। हमारे देश में कई तरह के त्यौहार मनाए जाते हैं। हमारा देश अन्न के मामले में आत्मनिर्भर है। हमारा देश दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। यह एक धर्मनिरपेक्ष देश है।

यद्यपि हमारे देश का इतिहास बहुत ही गौरवशाली है, फिर भी जाति व्यवस्था के कारण अर्थात अपने आप को दूसरों से बड़ा साबित करने और अपनी शक्ति बनाए रखने के संघर्ष के कारण, हमने विदेशियों के सामने खुद को कमजोर बना लिया।

नतीजा यह हुआ कि पहले हम पर मुसलमानों का और बाद में अंग्रेजों का शासन रहा। इस दौरान हमारे देश में कई क्रांतिकारी महापुरुष हुए, जिन्होंने आजादी का बिगुल बजाया और पूरी मानवता को 'जियो और जीने दो' का महान उपदेश दिया।

हमारे देश को अंग्रेजों से 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली थी। तब से हमारा देश भारत देश की आंतरिक और बाहरी समस्याओं से जूझते हुए लगातार प्रगति और विकास की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)
To Top